NCERT Solutions Class 7 Hindi Chapter 3 हिमालय की बेटियां

NCERT Solutions for Class 7 Hindi for Vasant 2 Chapter 3 हिमालय की बेटियां

लेख से
 

Question 1. नदियों को माँ मानने की परम्परा हमारे यहाँ काफ़ी पुरानी है। लेकिन लेखक नागार्जुन उन्हें और किन रूपों में देखते हैं?

 
उत्तर
 
नदियों को माँ मानने की परम्परा हमारे यहाँ काफ़ी पुरानी है लेकिन लेखक नागार्जुन उन्हें बेटियों, प्रेयसी व बहन के रूपों में भी देखते हैं।
 

Question 2. सिंधु और ब्रह्मपुत्र की क्या विशेषताएँ बताई गयी हैं?

 
उत्तर
 
सिंधु और ब्रह्मपुत्र दोनों महानदियाँ हैं जिनमें सारी नदियों का संगम होता है। ये दो ऐसी नदियाँ हैं जो दयालु हिमालय के पिघले हुए दिल की एक-एक बूँद से निर्मित हुई हैं। इनका रूप इतना लुभावना है कि सौभाग्यशाली समुद्र भी पर्वतराज हिमालय की इन दो बेटियों का हाथ थामने पर गर्व महसूस करता है। इनका रूप विशाल और विराट है।

Question 3. काका कालेलकर ने नदियों को लोकमाता क्यों कहा है?
 
उत्तर
 
काका कालेलकर ने नदियों को लोकमाता इसलिए कहा है क्योंकि ये युगों से एक माँ की तरह हमारा भरण-पोषण करती रही है। ये हमें पीने को जल तथा मिट्टी को उपजाऊ बनाने में सहायक होती हैं। जिस तरह माता तमाम कष्ट सहने के बावजूद अपने पुत्रों का भला चाहती हैं उसी तरह नदियाँ भी मनाव द्वारा दूषित किये जाने के बावजूद जगत का कल्याण करती हैं।

Question 4. हिमालय की यात्रा में लेखक ने किन-किन की प्रशंसा की है?
 
उत्तर
 
हिमालय की यात्रा में लेखक ने इसके अनुपम छटा की, इनसे निकलने वाली नदियों की अठखेलियों की, बर्फ से ढँकी पहाड़ियों सुंदरता की, पेड़-पौधों से भरी घाटियों की, देवदार, चीड, सरो, चिनार, सफैदा, कैल से भरे जंगलों की प्रशंसा की है।
 
 
भाषा की बात
 

Question 1. अपनी बात कहते हुए लेखक ने अनेक समानताएँ प्रस्तुत की हैं। ऐसी तुलना से अर्थ अधिक स्पष्ट एवं सुंदर बन जाता है। उदहारण 
(क) संभ्रांत महिला की भाँति वे प्रतीत होती थीं। 
(ख) माँ और दादी, मौसी और मामी की गोद की तरह उनकी धारा में डुबकियाँ लगाया करता।
अन्य पाठों से ऐसे पाँच तुलनात्मक प्रयोग निकालकर कक्षा में सुनाइए और उन सुंदर प्रयोगों को कॉपी में भी लिखिए। 

 
उत्तर
 

1. सचमुच मुझे दादी माँ शापभ्रष्ट देवी-सी लगी। 
2.बच्चे ऐसे सुंदर जैसे सोने के सजीव खिलौने। 
3. हरी लकीर वाले सफ़ेद गोल कंचे। बड़े आँवले जैसे। 
4. काली चीटियों-सी कतारें धूमिल हो रही हैं।
5.संध्या को स्वप्न की भाँति गुजार देते थे। 

 

Question 2. निर्जीव वस्तुओं को मानव-संबंधी नाम देने से निर्जीव वस्तुएँ भी मानो जीवित हो उठती हैं। लेखक ने इस पाठ में कई स्थानों पर ऐसे प्रयोग किए हैं, जैसे
(क) परंतु इस बार जब मैं हिमालय के कंधे पर पर चढ़ा तो वे कुछ और रूप में सामने थीं।
(ख) काका कालेलकर ने नदियों को लोकमाता कहा है।
पाठ से इसी तरह के और उदाहरण ढूँढि़ए। 

 
उत्तर
 

1. संभ्रांत महिला की भाँति वे प्रतीत होती थीं। 

2. कितना सौभाग्यशाली है वह समुद्र जिसे पर्वतराज हिमालय की इन दो बेटियों का हाथ पकड़ने का श्रेय मिला।
3. बूढ़े हिमालय की गोद में बच्चियाँ बनकर ये कैसे खेला करती हैं।
4. हिमालय को ससुर और समुद्र को दामाद कहने में कुछ झिझक नहीं होती थी।

Question 3. पिछली कक्षा में आप विशेषण और उसके भेदों से परिचय प्राप्त कर चुके हैं। 
नीचे दिए गए विशेषण और विशेष्य (संज्ञा) का मिलान कीजिए -
विशेषणविशेष्य
संभ्रांत
चंचल
समतल
घना
मूसलधार
वर्षा
जंगल
महिला
नदियाँ
आँगन


उत्तर


विशेषण           
विशेष्य               
संभ्रांत
चंचल
समतल
घना
मूसलधार
महिला
नदियाँ
आँगन
जंगल
वर्षा


Question 4. द्वंद्व समास के दोनों पद प्रधान होते हैं। इस समास में 'और' शब्द का लोप हो जाता है जैसे - राजा-रानी द्वंद्व समास है जिसका अर्थ है राजा और रानी। पाठ में कई स्थानों पर द्वंद्व समासों का प्रयोग किया गया है। इन्हें खोजकर वर्णमाला क्रम (शब्दकोश-शैली) में लिखिए।

 
उत्तर
 

छोटी-बड़ी 

दुबली-पतली 
भाव-भंगी 
माँ-बाप
 

Question 5. नदी को उलटा लिखने से दीन होता है जिसका अर्थ होता है गरीब। आप भी पाँच ऐसे शब्द लिखिए जिसे उलटा लिखने पर सार्थक शब्द बन जाए। प्रत्येक शब्द के आगे संज्ञा का नाम भी लिखिए, जैसे - नदी-दीन (भाववाचक संज्ञा)

 
उत्तर
 
धारा - राधा (व्यक्तिवाचक संज्ञा)
नव - वन (जातिवाचक संज्ञा)
राम - मरा (भाववाचक संज्ञा)
राही - हीरा (द्रव्यवाचक संज्ञा)
गल - लग (भाववाचक संज्ञा)
 
Question 6. समय के साथ भाषा बदलती है, शब्द बदलते हैं और उनके रूप बदलते हैं, जैसे - बेतवा नदी के नाम का दूसरा रूप 'वेत्रावती' है। नीचे दिए गए शब्दों में से ढूँढ़कर इन नामों के अन्य रूप लिखिए -
image
 

उत्तर

सतलुज
रोपड़
झेलम
चिनाब
अजमेर
बनारस
सतद्रुम
रूपपुर
वितस्ता
विपाशा
अजयमेरु
वाराणसी


Question 7. 'उनके खयाल में शायद ही यह बात आ सके कि बूढ़े हिमालय की गोद में बच्चियाँ बनकर ये कैसे खेला करती हैं।'
उपर्युक्त पंक्ति में 'ही' के प्रयोग की ओर ध्यान दीजिए। 'ही' वाला वाक्य नकारात्मक अर्थ दे रहा है। इसीलिए 'ही' वाले वाक्य में कही गई बात को हम ऐसे भी कह सकते हैं - उनके खयाल में शायद यह बात न आ सके।
इसी प्रकार नकारात्मक प्रश्नवाचक वाक्य कई बार 'नहीं' के अर्थ में इस्तेमाल नहीं होते हैं, जैसे-महात्मा गांधी को कौन नहीं जानता? दोनों प्रकार के वाक्यों के समान तीन-तीन उदाहरण सोचिए और इस दृष्टि से उनका विश्लेषण कीजिए। 

 
उत्तर
 
'ही' वाले वाक्य जिनका प्रयोग नकारात्मक अर्थ देता है-
1. वे शायद ही इस कलम का इस्तेमाल करें।
2. बच्चे शायद ही स्कुल जाएँ।
3. वे शायद ही मेरी बात टालें।
 
'नहीं' वाले वाक्य जिनका प्रयोग नहीं के अर्थ में इस्तेमाल नहीं होते हैं -
1. ऐसा कौन क्रिकेट फैन है जो सचिन तेंदुलकर को नहीँ जानता हो।
2. वृक्ष से होने वाले लाभ को कौन नही जानता।
3. सच्चे दोस्तों का महत्व कौन नही जानता।
 

Tags: 

 


Click for more Hindi Study Material

Latest NCERT & CBSE News

Read the latest news and announcements from NCERT and CBSE below. Important updates relating to your studies which will help you to keep yourself updated with latest happenings in school level education. Keep yourself updated with all latest news and also read articles from teachers which will help you to improve your studies, increase motivation level and promote faster learning

TV Channels for Students by CBSE

In enhancing the students studying part, the Government is planning to introduce one standard one channel plan. The lockdown in India has adversely collapsed all the operations including schools, colleges, and workplaces with unanticipated setbacks. On behalf of the...

CBSE Decision on Board Exam 2020

The Class 10 and 12 exams are cancelled, and results for both 10th and 12th would be declared by July 15 based on internal exams. CBSE Class 12 students would have the option to appear for the exams at a later date. CBSE has a scheme in which marks scored in past 3...

Board Cancelled Official CBSE Statement

Keeping in view the requests received from various State Governments and the changed circumstances as on date, following has been decided- 1. Examinations for classes X and XII which were scheduled from 1st July to 15th, 2020 stand cancelled. 2. Assessment of the...

Art Integrated Project work for classes 1 to 10

CBSE Board has decided to introduce Art-Integrated Project work for classes I to X to promote Art-Integrated Learning in schools to make teaching learning Competency-Based and joyful. As part of this, at least one Art-Integrated Project in each subject shall be taken...

CBSE Online Training for Teachers 2020

It is clear that this pandemic has utterly disrupted an education system that many assert was already losing its relevance. Enhancing professional development digitally is a need in the times of COVID-19, where social distancing and remote interactions is the new...

Class 10 Board Exams to be held

The CBSE board has announced that there is no change in the decision of conducting the CBSE board exams for the 29 subjects, which were canceled due to coronavirus crisis. So when the lockdown gets relaxed completely, the board will conduct the exams for the students,...

×
Studies Today