NCERT Solutions Class 5 Hindi पाठ 11 चावल की रोटियाँ

Scroll down to download pdf file

NCERT Solutions for Class 5 Hindi for Chapter 11 चावल की रोटियाँ

मंच और मंचन

एक सादा कमरा , दीवारों पर बाँस की चटाइयाँ | एक दिवार के सहारे मांस रखने की अलमारी | अलमारी के ऊपर एक रेडिओ , चाय की केतली कुछ कप और खाली गुलाबी फुलदान रखा है | कमरे के बीच फ़र्श पर एक चटाई बिछी है जिसके ऊपर कम ऊँचाई वाली गोल मेज रखी है | दो दरवाजे | एक दरवाजा पीछे की ओर खुलता है दूसरे किनारे की ओर | पंक्षियों के चहचाने के साथ – साथ पर्दा उठता है | दूर कहीं मुर्गा बांग देता हे | कुत्ता भोंकता है | कहीं प्रार्थना की घंटियाँ बजती है | कोको आता है , जम्हाई लेकर अपने को सीधा करता है|
ऊपर लिखी पंक्तियों में कोको के घर में एक कमरे का वर्णन किया गया है | दरअसल नाटक के लिए मंच सज्जा कैसी हो यह निर्देश उसके लिए है | तुम इस वर्णन को पढ़कर मंच का एक चित्र बनाओ जो ठीक वैसा ही होना चाहिए जैसा कि बताया गया है|
उत्तर-

NCERT Solutions 

नाटक की बात

प्रश्न 1 . नाटक में हिस्सा लेने वालों को पात्र कहते हैं | जिन पात्रों की भूमिका महत्वपूर्ण होती है उन्हें ‘ मुख्य पात्र ’| और जिनकी भूमिका ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं होती उन्हें ‘ गौण पात्र ’ कहते हैं | बताओ इस नाटक में कौन – कौन मुख्य और गौण पात्र कौन है?
उत्तर – 
नाटक में कोको, मिमि और तिन सू मुख्य पात्र है| वही नीनी और उ बा उन गौण पात्र है|

प्रश्न 2. पात्रों को जो बात बोल नी होती हो ती है संवाद कहते हैं | क्या तुम किसी एक परिस्थिति के लिए संवाद लिख सकती हो ? ( इसके लिए तुम टोलियों में भी काम कर सकती हो |) उदाहरण के लिए ; खो – खो या कबड्डी जैसा कोई खेल – खेलते समय दूसरे दल के खिलाड़ियों से बहस|
उत्तर- पहले दल के सदस्य – 
तुम्हारे खिलाड़ी ऑउट है|
दूसरे के दल के सदस्य – किस तरह आउट है?
पहले दल के सदस्य – क्योंकि इसकी साँस टूट गई थी|
दूसरे दल के सदस्य – नहीं, इससे पहले यह अपने पाले में आ गया था|
पहले दल के सदस्य – तुम झूठ बोल रहे हो|
दूसरे दल के सदस्य – बहस मत करो और खेल शुरू करो|

प्रश्न 3. क्या कभी आपने कोई चीज है बात दूसरों से छिपाई है या छिपाने की कोशिश की है , उस पर समय क्या – क्या हुआ था?
उत्तर – 
एक बार मेरा एक मित्र मुझसे कहानियों की पुस्तक मांगने आया| मैं उसे पुस्तक नहीं देना चाहता था| इसलिए मैंने वह पुस्तक तकिए के नीचे छुपा दी| लेकिन वही पर बैठ गया| तब मैंने चुपके से निकाल कर मेज की दराज में रख दी| कुछ समय बाद मेंरा मित्र दराज खोलने लगा| तब मैंने उसे बड़ी मुश्किल से बहाना बना कर उसे बहार भेजा|

प्रश्न 4. कहते हैं , एक झूठ बोलने के लिए सौ झूठ बोलने पड़ते हैं | क्या तुम्हें कहानी प ढ़कर लगता ऐसा लगता है ? कहानी की मदद से इस बात समझाओ|
उत्तर- 
हाँ, हमें कहानी में ऐसा लगता है कि एक झूठ बोलने के लिए सौ झूठ बोलने पड़ते हैं| नीनी और मिमि से चावल की रोटियां बचाने के लिए कोको झूठ बोलता है| इसके लिए वह रेडियो के खराब होने, अपना पेट भरा होने, मुंह हाथ धोने गले, में चूहा होने रोटियां खा लेने तथा मां को एलर्जी होने जैसे झूठ बोलता है|


एक चावल कई-कई रुप

प्रश्न 1. कोको की माँ उसके लिए चावल की रोटियां बनाकर रखी थी | भारत के विभिन्न प्रांतो में चावल अलग – अलग तरीके से इस्तेमाल किया जाता है – भोजन के हिस्से की रूप में में भी और नमकीन और मीठे पाकवान के रूप में भी | तुम्हारे प्रांत में चावल का इस्तेमाल कैसे होता है ? घर में बातचीत करके पता करो एक तालिका बनाओ | कक्षा मैं अपने दोस्तों की तालिका के साथ मिलान करो तो पाओगे की भाषा , कपड़ों और रहन – सहन के साथ – साथ खान – पान की दृष्टि से भी भारत अनूठा है|
उत्तर – 
प्रांत चावल का प्रयोग
दिल्ली भोजन के लिए, मीठे पकवान बनाने के लिए, नमकीन पकवान बनाने के लिए, रोटियाँ इटली डोसा बनाने के लिए खिचड़ी बनाने के लिए|

प्रश्न 2. अपनी तालिका में से चावल से बनी कोई एक खाने चीज बनाने की विधि पता करो और उसे नीचे दिए गए बिंदुओं के साथ से लिखो
* सामग्री, *तैयारी, *विधि
उत्तर-
 खीर
सामग्री – चावल, दूध, चीनी, मेवे|
तैयारी – चावल साफ करना, धोना, मेवों की बारीक काटना|
विधि – 1. पहले दूध, चीनी आँच पर कढ़ाई में रखें|
2. फिर कुछ देर के बाद चावल दाल दे|
3. कुछ देर पकने दे और हिलाते रहें|
4. अब उनमें चीनी डाल दें|
5. कटे मेवे भी दाल दें|
6. अब गर्मागर्म परोसें|

प्रश्न 3. “कोको के माता-पिता धान लगाने के लिए खेतों में गए|”
“को के माँ ने उसके लिए चावल
 रोटियां बनाई|”
एक ही चीज़ के विभिन्न रूपों के अलग-अलग नाम हो सकते हैं| नीचे कुछ शब्द दिए गए हैं| उनमें अंतर बताओ|
*चावल – *धान – *भात – *मुरमुरा – *चिउड़ा
उत्तर- चावल
 – धन से निकला हुआ दाना चावल कहलाता है|
धान – छिलका चढ़ा चावल धान कहलाता है|
भात – पके हुए चवल को बात कहते हैं|
मुरमुरा – धान को भुनकर मुरमुरे बनाए जाते हैं|
चिउड़ा – धान को भिगोकर पिसने से चिउड़ा बनता हैं|

*साबुत दाल – *धूली दाल – *छिलका दाल
उत्तर- साबुत दाल 
– बिना छिलका उतारे या बिना टूटी साबुत दाल कहलाती है|
धूली दाल – बिना छिलके की दाल को धूली दाल कहते हैं|
छिलका दाल – टूटी हुए लेकिन छिलके वाली को छिलका दाल कहते हैं|

*गेहूँ – *दलिया – *आटा – *मैदा – *सूजी
उत्तर- गेहूँ 
– गेहूँ के साबुत दानों को गेहूँ कहते हैं|
दलिया – गेहूँ को मोटा-मोटा पीसकर दलिया बनाया जाता है|
आटा – गेंहूँ को पीसकर आटा बनाया जाता है|
मैदा – गेहूँ को बारीक़ पीसकर मैदा बनाया जाता है|
सूजी – जौ आदि अनाज से बना आटा सूजी कहलाता है|

के, में, ने, को, से..
“कोको की माँ ने कल दुकान से एक फूलदान खरीदा था|”
प्रश्न – ऊपर लिखे वाक्य में जिन शब्दों के नीचे रेखा खींची है वे वाक्य में शब्दों का आपस में संबंध बताते हैं| नीचे एक मजेदार किताब “अनारको के आठ दिन” का एक अंश दिया गया है| उसके खाली स्थानों में इस प्रकार के सही शब्द लिखो|
अनारको एक लड़की है| घर….. लोग उसे अन्नो कहते हैं| अन्नो नाम छोटा जो है, सो उसे….. हुक्म चलाना आसान होता है| अन्नो, पानी ले आ, अन्नो धूप में मत जाना, अन्नो बाहर अंधेरा-कहीं मत जा, बारिश…… भीगना मत, अन्नो! और कोई बाहर…… घर में आए तो घरवाले कहेंगे ये हमारी अनारको है, प्यार से हम इसे अन्नो कहते हैं| प्यार….. हूँ-ह-ह!
आज अनारको सुबह सोकर उठी तो हाँफ रही थी| रात सपने….. बहुत बारिश हुई| अनारको…… याद किया और उसे लगा, आज…… सपने में जितनी बारिश हुई उतनी तो पहले के सपनों…….. कभी नहीं हुई| कभी नहीं| जमकर बारिश हुई थी आज…… सपने….. और जमकर उसमें भीगी थी अनारको| खूब उछली थी, कुदी थी, चरों तरफ़ पानी छिटकाया था और खूप-खूब भीगी थी|
उत्तर-
 के, से, में, से, से, में, ने, के, में, के, में|

Tags: 

Click on the text For more study material for Hindi please click here - Hindi

Latest CBSE News

  • When it comes to scoring good marks in the board exams, most of the students waste their time to choosing the right study material. Sometimes it may lead to failure because of the wrong study material. National Education, Research and Training Council (NCERT) have been responsible for distributing the textbooks to students and for their development. NCERT books are very helpful to understand the...
  • While the long-standing standards for picking streams in our nation have settled that toppers and tutorially-skilled undergrads normally float towards science, it's pursued being toppled. Undergrads, today, are proactively picking the business stream, regardless of their scholarly standing. In this way, in case you're needing to pick your stream once you are done with tenth, or have just settled...
  • “Education is what remains after one has forgotten what one has learned in school”-AlbertEinstein The statement is indeed true but doesn’t mistake it to be limited to academic education. It clearly implies both types of education-Academic and Non-Academic. Academic education nurtures the brain with the study related knowledge but non-academic helps to recognize the skills one possesses and...
  • A computer has become very much important nowadays because it can perform tasks very easily, accurate and fast. Due to the increasing usage of computers, there are so many jobs available in enormous fields. If you are interested in working in fields of computers then these are the 3 main courses available for you i.e. BCA, B.TechComputer Science and B.Sc Computer Science. It may become confusing...
  • The Central Board of Secondary Education (CBSE) has decided to drop some of the chapters from the class 10th Social Science book.  As per the new curriculum, the three chapters of political studies and two environmental texts are not included in the CBSE board examinations. However, these chapters are still teach in the classes. They are just separate from the CBSE board examinations.  Download...
  • We all know CBSE has conducted every year board exams for class 10. As soon as we land in class 10, everyone starts suggesting different things. They tell us to study hard because this is the first step towards your career. If you are willing to take science stream in class 11th and 12th, then it is very important to get good marks in class 10. So that you can easily take your stream. Check out...
  • So far, the practical examinations of students appearing for the Central Board of Secondary Education (CBSE) were held at home centres, but from now on this year, plans like conducting practical exams at the external centres just like the board, theory paper is conducting. As per the latest CBSE updates, the CBSE will bring new changes in the marking system of practical examinations, and it is...