NCERT Solutions Class 3 Hindi पाठ 2 शेखीबाज़ मक्खी

Scroll down to download pdf file

NCERT Solutions for Class 3 Hindi for पाठ 2 शेखीबाज़ मक्खी

कैसी लगी कहानी|
प्रश्न- कक्षा में साथियों के साथ बातचीत करो|
* तुम्हें कहानी में कौन सबसे अच्छा लगा? क्यों?
उत्तर-
हमें कहानी में सबसे अच्छी लोमड़ी लगी, क्योंकि उसने बड़ी चतुराई से काम लिया| उसने मक्खी को सबक सिकने के लिए मकड़ी के जाल में फँसादिया| इसीसे मक्खी का घमंड चूर-चूर हो गया|

* मक्खी मकड़ी के जाल में फँस गई थी| फिर क्या हुआ होगा? कहानी आगे बाढ़ाओ|
उत्तर-
मक्खी मकड़ी के जाल में फँस गई| उसने जाल से निकलने की बहुत कोशिश की| वह जितनी कोशिश करती, उतनी ही अधिक फंसती जाती थी| अंत म एवह जाल में फँसकर मर गई| उसका घमंड चूर-चूर हो गया|

कहानी का नाम
प्रश्न 1. अगर कहानी का नाम मक्खी को ध्यान में रखकर लोमड़ी और शेर को ध्यान में रखकर लिखा जाए तो उसके क्या-क्या नाम हो सकते थे|
उत्तर-
लोमड़ी को ध्यान में रखकर अगर कहानी का नाम लिखा जाता तो नाम होता – चालाक लोमड़ी, लोमड़ी और मक्खी|
शेर को ध्यान में रखकर कहानी का नाम लिखा जाता तो नाम होता – मुर्ख शेर, शेर और मक्खी|

प्रश्न 2. अब तुम कहानी के लिए न्य शीर्षक सोचो| यह शीर्षक कहानी के किसी पात्र पर नहीं होना चाहिए| (कहानी की किसी घटना के बारे में शीर्षक हो सकता है|)
उत्तर-
कहानी का नया शीर्षक हो सकता है – घमंडी का सर नीचा, घमंड का नतीजा|


शेर की जगह तुम………….
प्रश्न 1. मक्खी ने जब शेर को जगाया तो वह आग बबूला हो गया| तुम्हें जब कोई गहरी नींद से जगाता है तो तुम क्या काम करते हो?
उत्तर-
यदि मई शेर की जगह होता तो आग बबूला नहीं होता| गहरी नींद में जगाने पर मैं तो मम्मी से कहता हूँ, मुझे अभी और सोने दो| मेरी नींद पूरी नहीं हुई है|

प्रश्न 2. मक्खी उड़ाते-उड़ाते शेर ऊब गया था| तुम क्या करते-करते ऊब जाते हो?
उत्तर-
मैं अधिक देर तक टी.वी. देखते-देखते व स्कूल का काम करते-करते ऊब जाता हूँ|

प्रश्न 3. मान लो तुम शेर हो| मक्खी ने तुम्हारे साथ जो कुछ भी किया वह लोमड़ी को बताओ|
उत्तर-
बहन लोमड़ी| मैं जंगल का राजा हूँ| मक्खी ने मेरे साथ बहुत बुरा व्यहार किया| पहले तो उसने मेरे कान में भिनभिना कर मुझे गहरी नींद से जगा दिया| जब मैंने उसे दूर हटने के लिए के लिए कहा और उसे मार डालने की धमकी दी तो उसने मुझे लड़ने की चुनौती दे डाली| मक्खी पहले मेरे कान पर बैठी तो मैंने उसे मारने के लिए पंजा मारा| तो वह उड़ गई और मेरा कान छिल गया| इसके बाद वह नाक पर, माथे पर, कभी गाल पर और कभी गर्दन पर बैठती| मैंने उसे मारने के लिए हर बार पंजा चलाया| पर वह हाथ नहीं आई| मैं पंजे मरने से कई जगह से घायल हो गया| मेरा बुरा हाल हो गया| बहन! अब तुम ही बताओ मैं क्या करूँ|

प्रश्न 4. शेर तो भोजन करके आराम कर रहा था | तुम खाना खा कर क्या करते हो?
उत्तर –
*अक सर खेलते हैं|
*कभी – कभी आराम कर ते है या टहलने भी चले जाते हैं |

प्रश्न- शेर ने भोजन में क्या खाया होगा ? तुम क्या – क्या खाते हो?
उत्तर –
शेर ने किसी जानवर का कच्चा मांस खाया होगा|
हम चावल , दाल , सब्जी , रोटी , और सलाद व फल खाते हैं
|


किसने क्या कहा
प्रश्न- नीचे कहानी से जुड़ी तस्वीरें दी गई हैं| उसमें कुछ न कुछ बोला जा रहा है| सोचो और लिखो कौन क्या बोल रहा है?
उत्तर-

मक्खी बोली-वरना क्या कर लोगे? मैं क्या तुमसे दर जाऊँगी? मैं तो तुमसे भी लड़ सकती हूँ| हिम्मत हो आ जाओ…..

शेर बोला-मक्खी बहन, अब मुझे छोडो| मैं हारा और तुम जीती,बस

मक्खी बोली-हाथी क्या तुम मुझससे लड़ सकती हो?

मक्खी बोली-लोमड़ी रानी क्या तुम मुझसे डर गई?

लोमड़ी बोली-मक्खी रानी, उधर वह मकड़ी दिखाई दे रही हैं न, वह आपको गाली दे रही थी| उसकी ज़रा खबर लो न!


कौन क्या?
प्रश्न- कहानी के हिसाब से बताओ|
उत्तर-

घमंडी

चतुर

समझदार

मक्खी

हाथी

हाथी

डरपोक

सबसे चतुर

आलसी

शेर

लोमड़ी

शेर


चुटकी बजाते ही
प्रश्न- चुटकी बजाने का मतलब होता है ‘बहुत जल्दी कर लेना|’
*तुम कौन-कौन से काम चुटकी बजाते ही कर लेते हो? बताओ|
उत्तर-
हम दूध पीने, जूते पहनने, बालों में कंघा करने, स्कूल की वर्दी पहनने, अपनी बात बोने का काम चुटकी बजाते ही कर लेते हैं|

* अब तुम अपनी एक टोली बनाओ| तुममे से एक लीडर बनेगा| वह बाकी बच्चों को करने के लिए काम देगा| जिसे चुटकी बजाते ही करना होगा| जैसे बाहर से पाँच पत्तियाँ लाओ और उनके नाम बताओ या शेखीबाज़ मक्खी के पात्रों के नाम बताओ| जो सबसे जल्दी कर ले वह लीडर बने|
उत्तर-
हमने बिरजू, श्याम, अक्षित रमन और आंचल को लेकर एक टोली बना ली| हमारा लीडर बिरजू है| उसने श्याम को पाँच तरह की पत्तियाँ, रमन को पाँच तरीके दाल अक्षित को पाँच रंग की चीजे तथा चंचल को पाँच रंग के धागे और स्वयं पाँच तरह के बटन लाने को कहा| अक्षित सबसे पहले पाँच रंग की चीजें लेकर लौटा और उसने पाँच रंगों के ठीक-ठीक नाम बताया| इस तरह वह हमारा लीडर बन गया| उसके बाद हमने खेल शुरू कर दिया|
शेखीबाज मक्खी के पात्रों के नाम हैं| मक्खी, शेर, हाथी, और लोमड़ी|


रास्ता ढूँढो
यह मकड़ी उस रास्ते से जाना चाहती है, जिस पर चलकर सबसे ज्यादा जाले मिले| अंदर जाने के लिए 1, 2, 3, 4 और 5 में से कौन-सा रास्ता होगा
 

उत्तर-4 नं. वाले में ज्यादा जाले मिलेंगे|


भाषा की बात
प्रश्न- इन वाक्यों को अपने ढंग से लिखकर बताओ|
* शेर आग बबूला हो उठा|
उत्तर-
शेर गुस्से से काँ पने लगा|

* उसकी ज़रा खबर लो न|
उत्तर-
उसके बारे में पता करो|

* उस मकड़ी को तो मैं चुटकी बजाते ही ख़त्म कर देती हूँ|
उत्तर-
उस मकड़ी को मैं जल्दी ही मार देती हूँ|

* जंगल के राजा के मुँह से ऐसी भाषा शोभा नहीं देती हैं|
उत्तर-
जंगल के राजा को ऐसा नहीं करना चाहिए|


उड़ते मँडराते
प्रश्न- इनके पास तुमने अक्सर किन०किन को उड़ते-मँडराते देखा है?
उत्तर- *जलते बल्ब के आस-पास
मच्छर छिपकली
* खेतों मेंटिड्डे मच्छर
* इकट्ठे पानी के ऊपरमच्छर मक्खी
* फूलों परतितली भ्रमर
* कचरे के ढेर परमक्खी मच्छर
* हलवाई की मिठाई परमक्खी शहद की मक्खी


कौन है शेखीबाज़
प्रश्न- क्या तुम किसिस शेखीबाज़ को जानते हो? कौन है वह? वह किस चीज़ के बारे में शेखी बघारता है?
उत्तर-
मैं एक शेखीबाज़ को जानता हूँ| वह है मेर पडोसी सलीम| वह अपने घर में बहुत अधिक विदेश चीज़े होने की शेखी बघारता है| वह कहता है, हमारे पास विदेशी टेलीविजिन, कैमरा, कपड़े धोने की मशीन, टेलीफ़ोन, पंखे यहाँ तक की दीवारों पर लगी पेंटिंग्स भी विदेशी हैं|

Click on the text For more study material for Hindi please click here - Hindi

Latest CBSE News

  • If you’re the one who opted for the medical stream because you liked studying biology. Unfortunately, you have been unable to clear the NEET exam and now worried about their future. Actually, most people think that career options for PCB end at medical. Today in this article we will be talking about some of the career options for PCB stream which students can pursue after class 12th. Here is the...
  • Board exams play a very important role in our lives. It boosts our knowledge and also helps to know our status in academic life. Both class 10th and class 12th play a very significant role in a student’s life.It also helps inselecting the stream of their own choice. So that in later, they can’t regret their decisions. Board exams are key factors in determining the course of student’s careers....
  • The Indian Board of Education is divided into two boards, CBSE and ICSE. According to the different features of the boards people choose to study in the board the prefer more. The Central Board of Secondary Education (CBSE) is a national level board of education conducted and run by the Union Government of India. It was formed 56 years ago on 3rd November 1962. It is for public and private...
  • Last month Delhi government announced that the students of government schools will not be charged any fees to the Central Bureau of Secondary Education (CBSE). Well, Delhi Education Minister Manish Sisodia said this while addressing students during a function at the Thyagraj Stadium in New Delhi. All the Delhi government schools are affiliated to the CBSE as a board of education. As the Sisodia...
  • “Education is what remains after one has forgotten what one has learned in school”-AlbertEinstein The statement is indeed true but doesn’t mistake it to be limited to academic education. It clearly implies both types of education-Academic and Non-Academic. Academic education nurtures the brain with the study related knowledge but non-academic helps to recognize the skills one possesses and...
  • As all you know, the results of most state boards declared till the month of June, all intermediate or higher secondary pass students should think that how to choose the best career option for a bright and successful future. While some young people want to become doctors or engineers, others want to be teachers. If you are one of the third students to graduate to qualify for BEd and other teacher...
  • So far, the practical examinations of students appearing for the Central Board of Secondary Education (CBSE) were held at home centres, but from now on this year, plans like conducting practical exams at the external centres just like the board, theory paper is conducting. As per the latest CBSE updates, the CBSE will bring new changes in the marking system of practical examinations, and it is...